60 बरस की हुई अजीज गायिका कविता कृष्णमूर्ति

  • Publish Date:
  • January 25, 2018 02:11 PM

बॉलीवुड कि हरदिल अजीज गायिका कविता कृष्णमूर्ति का जन्म 25 जनवरी 1957 को हुआ था. कविता कृष्णमूर्ति का परिवार दिल्ली के कालीबाड़ी में रहते थे. पड़ोस की एक आंटी से संगीत सीखने की शुरूआत हुई. कुछ समय बाद ही मोहल्ले की दुर्गा पूजा में कविता को पहला ईनाम मिला. उस वक्त उनकी उम्र सात साल के करीब रही होगी. इसके बाद ही कविता कृष्णमूर्ति के लिए गुरू की तलाश शुरू हुई. उन दिनों कविता के गुरु  बलराम पुरी थे जो भारतीय महाविद्यालय में शास्त्रीय संगीत सिखाते थे. कविता इतनी छोटी उम्र में अपने को  संगीत से जोड़े रखने का क्रेडिटअपने गुरू जी को हमेशा देती हैं. ये वो दौर था जब अलग अलग मंत्रालयों में भी संगीत की प्रतियोगिताएं हुआ करती थीं. कविता कृष्णमूर्ति ने ऐसी तीन प्रतियोगिताएं जीतीं. 

कविता कृष्णमूर्ति की पृष्ठभूमि काफी अलग है. उनके मम्मी-पापा तमिलियन थे, लेकिन पड़ोसी बंगाली. दोनों परिवारों की दोस्ती गहरी थी. इस दोस्ती का असर कविता की परवरिश पर भी पड़ा. कविता के पिता एजुकेशन एंड कल्चर अफेयर्स मिनिस्ट्रीमें थे. एक और दिलचस्प संयोग ये था कि कविता के पड़ोस में ही हेमा मालिनी रहा करती थीं, जो उन दिनों भरतनाट्यम सीख रही थीं. उनकी देखा देखी कविता को भी डांस क्लास में ले जाया गया लेकिन कविता ने जल्दी ही कह दिया कि वो डांस नहीं सीख सकती हैं.

मुंबई पहुंचने के बाद कविता कृष्णमूर्ति ने सेंट जेवियर ज्वाइन कर लिया. वहां वो गाने लगीं. कविता के कॉलेज में तमाम फिल्मी कलाकारों के बच्चे भी पढ़ते थे. एक बार कॉलेज के एक कार्यक्रम में कविता कृष्णमूर्ति गा रही थीं. उस रोज अमीन सयानी और हेमंत कुमार चीफ गेस्ट थे. कार्यक्रम खत्म होने के बाद ही हेमंत दा ने कविता कृष्णमूर्ति को अपने साथ गाने का ऑफरदे दिया. कविता कृष्णमूर्ति का माइक के सामने पहला गाना लता जी के साथ था. इसके बाद 1980 का साल आया. इसी साल एक फिल्म बनी थी- मांग भरो सजना. उसका गाना था काहे को ब्याही विदेश जो कविता का पहला गाना फिल्म में रखा गया था. इसके बाद उन्होंने कुछ गाने डब भी किए. इसके बाद प्यार झुकता नहींफिल्म आई. कविता कृष्णमूर्ति ने लता जी के सारे गाने डब किए. फिल्म का जो आखिरी गाना था- तुमसे मिलकर ना जाने क्यों, जो फिल्म में एक बच्चे पर फिल्माया गया था. वो कविता कृष्णमूर्ति ने गाया. फिर मिस्टर इंडिया के गाने गाए.

इसके बाद की कहानी भारतीय फिल्म के इतिहास में दर्ज है. 1942- लव स्टोरी के गानों ने कविता को सफलता की बुलंदियों तक पहुंचाया. कविता कृष्णमूर्ति को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं

Related News