भगौड़ों के लिए शानदार शरणस्थली है- ब्रिटेन

  • Publish Date:
  • June 14, 2018 12:03 PM

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी नीरव मोदी और बैंकों के हजारों करोड़ रुपये डकार कर विजय माल्या ब्रिटेन भाग गए| वहीं वित्तीय अनियमितताओं के आरोपी ललित मोदी ने भी ब्रिटेन में ही शरण  ले रखी है| आखिर क्यों भगौड़ों के लिए ब्रिटेन बना है शानदार शरणस्थली|

ब्रिटेन  ने  मानवाधिकारों पर यूरोपियन संधिपत्र पर दस्तखत कर रखे हैं| अगर ब्रिटिश कोर्ट को लगता है कि किसी दूसरे देश के नागरिक को  को वापस भेजने पर प्रताडि़त या मौत की सजा दी जा सकती है या राजनीतिक कारणों से उसका प्रत्यर्पण   मांगा जा रहा है तो वह वापस भेजने से इनकार कर सकता है|
साल 2013 के बाद से करीब 5500 भारतीयों ने ब्रिटेन में राजनीतिक शरण मांगी है| भारत से ब्रिटेन भागने वाले व्यक्तियों में कई बड़े नाम शामिल हैं जैसे म्यूजिक डायरेक्टर नदीम सैफी, पूर्व आईपीएल प्रशासक ललित मोदी, किंगफिशर एयरलाइंस के विजय माल्या और नीरव मोदी| इन लोगों के पास पैसों की  कमी नहीं है और ये लंबे केस लड़ने में सक्षम हैं| इस वजह से भी कई बार प्रत्यर्पण नहीं होता है|

भारत और ब्रिटेन ने 1993 में प्रत्यर्पण संधि पर दस्तखत किए थे| लेकिन इस पर पूरी तरह से अमल नहीं हो पाया

Related News