फिल्मों में काम करने वाली पहली Miss India- नूतन

  • Publish Date:
  • June 4, 2018 03:40 PM

नूतन एक ऐसी अदाकारा थीं, जिन्होंने फिल्मी पर्दे पर भारतीय नारी और उसके गहरे जज्बात को सम्मान का हकदार बनाया।  नूतन का जन्म एक्ट्रेस शोभना सामर्थ्य और कुमार सेन सामर्थ्य के घर मुंबई में 4 जून 1936 को हुआ  था।  मुंबई में जन्मी नूतन  को अभिनय की कला विरासत में मिली। घर में फिल्मी माहौल रहने के कारण नूतन अक्सर अपनी मां के साथ शूटिंग देखने जाया करती थी। इस वजह से उनका भी रूझान फिल्मों की ओर हो गया और वह भी अभिनेत्री बनने के ख्वाब देखने लगी।

14 साल की नन्ही उम्र में नूतन ने लाइट कैमरा एक्शन की दुनिया में कदम रख दिया था। नूतन ने बतौर बाल कलाकार फिल्मनल दमयंती'  से अपने सिनेमा कैरियर की शुरूआत की। इस बीच नूतन ने अखिल भारतीय सौंदर्य प्रतियोगिता में हिस्सा लिया जिसमें वह प्रथम चुनी गयी।

वर्ष 1958 में प्रदर्शित फिल्म 'दिल्ली का ठग' में नूतन ने स्विमिंग कॉस्टयूम तरण वेश पहनकर उस समय के समाज को चौंका दिया। फिल्म बारिश में नूतन ने काफी बोल्ड सीन दिए जिसके लिये उनकी काफी आलोचना भी हुई लेकिन बाद में विमल राय की फिल्म सुजाता एवं बंदिनी में नूतन ने अत्यंत मर्मस्पर्शी अभिनय कर अपनी बोल्ड अभिनेत्री की छवि को बदल दिया।

1955 में फिल्म 'सीमा' के लिए उन्हें पहला फिल्म फेयर अवॉर्ड दिया गया। इसके अलावा 'सुजाता' 1959, 'बंदिनी' 1963, 'मिलन' 1967 और 'मैं तुलसी तेरे आंगन' की में निभाएं यादगार रोल्स के लिए सबसे ज्यादा फिल्म फेयर अवॉर्ड हासिल करने वाली एक्ट्रेस में उनका नाम आज भी शुमार है।

नूतन ने राज कपूर के साथ 'छलिया' ,देवानंद के साथ 'पेइंग गेस्ट', सुनील दत्त के साथ 'सुजाता' जैसी फिल्मों से अपने चाहने वालों के दिलों में हमेशा के लिए घर कर लिया। 40 साल के लंबे  करियर में उन्होंने ने 70 फिल्मों में बेमिसाल किरदार निभाए।  खूबसूरत सा फिल्मी सफर लिखकर 21 फरवरी 1991 को कैंसर की वजह से उन्होंने ने दुनिया को अलविदा कह दिया।  नूतन को फिल्मों में उनके योगदान के लिए 1974 में भारत सरकार ने पद्मश्री से सम्मानित किया। 2011 में उनके नाम पर डाक टिकट भी जारी किया गया।  

Related News