तालिबान के रुख में बड़ा बदलाव

  • Publish Date:
  • March 10, 2018 02:22 PM

दशकों की बातचीत के बाद आखिरकार तालिबान के नियंत्रण वाले इलाके में 7.5 अरब डॉलर के गैस पाइपलाइन लिए जमीन तैयार कर ली है।  अफगानिस्तान और पाकिस्तान से होकर अफगानिस्तान भारत तक आने वाली 7.5 अरब डॉलर की गैस पाइपलाइन परियोजना तापी (TAPI) कई सालों के अड़ंगे के बाद एक बार फिर शुरू हो सकती है। अफगानिस्तान में तालिबान के विरोध के चलते ये परियोजना कई वर्षों से रुकी पड़ी थी, पर अब एक चौंकाने वाले घटनाक्रम में तालिबान खुद इसके पक्ष में खड़ा हो गया है  ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। 

तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्ला मुजाहिद ने पिछले महीने एक बयान में कहा, 'तालिबान देश के पुनर्निर्माण और आर्थिक बुनियाद को दोबारा खड़ा करने में अपनी जिम्मेदारी को जानता है और अंतरराष्ट्रीय कंपनियों से इस मामले में अफगानियों की मदद के लिए कह रहा है।'

इस पाइपलाइन पर बातचीत तब से ही चल रही है जब देश में तालिबान की सरकार थी। प्रस्तावित तापी पाइप लाइन चार देशों तुर्कमेनिस्तान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान भारत (TAPI) से होकर गुज़रेगी। इस पाइपलाइन से सालाना 33 अरब क्युबिक मीटर गैस की सप्लाई होगी।  इससे हजारों लोगों को नौकरियां मिलेंगी अफगानिस्तान की कमजोर अर्थव्यवस्था को भी काफी मदद मिलेगी।  अफगानिस्तान में 500 मील से अधिक लंबी पाइपलाइन तालिबान नियंत्रित इलाके से गुजरेगी।  काबुल में अमेरिका समर्थित सरकार के खिलाफ 17 साल से लड़ रहे संगठन के इस प्रॉजेक्ट में खड़े होने से राजनीतिक सुलह की उम्मीद भी जगी है। 

Related News